Parliament Special Session: भारत में कब-कब बुलाया गया संसद का विशेष सत्र

Parliament Special Session 2023

भारत में इस साल सितंबर महीने में जी20 शिखर सम्मेलन आयोजित हुया और संसद के विशेष सत्र का आयोजन भी किया जा रहा है.

हर साल संसद के इस विशेष सत्र का आयोजन नहीं किया जाता है. लेकिन कई सालों बाद इस बार चर्चा का विषय ये है कि आखिर संसद का विशेष सत्र होता क्या है?

संसद का विशेष सत्र 2023 में कब है?


आपको यह जानना आवश्यक है कि यह 18 से 22 सितंबर, 2023 तक आयोजित किया जाएगा। यानी 18वीं, 19वीं, 20वीं, 21वीं, 22वीं. पांच दिनों के लिए।

अभी, हम 17वीं लोकसभा को देख रहे हैं। तो कुल सत्र के हिसाब से 17वीं लोकसभा का यह विशेष सत्र 13वां सत्र होगा.

अब अगर राजसभा की बात करें तो यह 261वां सत्र है. आप जानते ही हैं कि राजसभा में विघ्न नहीं पड़ता। इसीलिए, सत्रों की संख्या बढ़ रही है।

संसद का स्वरूप क्या होता है?


तो, आप जानते हैं, हमारे संसद में क्या महत्वपूर्ण है?

लोकसभा, राजसभा और राष्ट्रपति। राष्ट्रपति के पास संसद संभालने की जिम्मेदारी होती है। परन्तु राष्ट्रपति को संसद प्रक्रिया में भाग लेने का अधिकार नहीं है।

तो चलिए अब आते हैं इस लोकसभा और राजसभा पर. यहीं पर संसद की बैठक आयोजित की जाती है।

संविधान में क्या प्रावधान हैं?


आइए इसे समझने की कोशिश करते हैं.

भारतीय संविधान के अनुसार हम देखते हैं कि हमारे देश में एक सत्र होगा। हालाँकि ऐसा कहीं नहीं लिखा है. कोई भारतीय कैलेंडर नहीं है. भारत में कोई संसद कैलेंडर नहीं है. कि इस तिथि को और निश्चित समय पर विशेष सत्र का आयोजन किया जायेगा.

लेकिन, एक परंपरा है. परंपरा के अनुसार भारतीय संविधान में सत्र आयोजन का आदेश है।लेकिन यह एक परंपरा है और इसे परंपरा के अनुसार किया जाता है।

हालांकि, इसमें कुछ शर्तें दी गई हैं उदाहरण के लिए, शर्त यह है कि संसद सत्र वर्ष में कम से कम दो बार किया जाना चाहिए तथा दो सत्रों की अवधि छह माह से अधिक नहीं होनी चाहिए यानी छह महीने में कम से कम एक सत्र करना बेहतर रहेगा.

भारत में सत्र कितने प्रकार के होते हैं?


बजट सत्र


सबसे पहले देखेंगे बजट सत्र. इसे साल का पहला सत्र कहा जाता है और ये सबसे बड़ा सत्र है. इसकी शुरुआत जनवरी के अंत में होती है और यह सत्र फरवरी, मार्च, अप्रैल तक चलता है

क्योंकि यह बहुत लंबा सत्र है, एक समय ऐसा आता है जब ब्रेक होता है, कोई सत्र कार्यक्रम नहीं होता है, कोई बैठक नहीं होती है लेकिन काम अभी भी जारी है और काम क्या है?

समिति के सदस्य बजट प्रस्तावों पर चर्चा करते हैं.

मानसून सत्र


उसके बाद आता है मानसून सत्र. यह वर्ष का दूसरा सत्र है. हम कह सकते हैं कि यह सत्र तीन सप्ताह तक चलेगा.

इसे मानसून सत्र क्यों कहा जाता है?

क्योंकि यही वह समय है जब भारत में मानसून अपना असर दिखा रहा होता है.

शीतकालीन सत्र


अब बात करते हैं शीतकालीन सत्र की. पहला, यह तीसरा सत्र है और दूसरा यह कि इस सत्र का आयोजन शीतकाल में किया जाता है और यह सत्र नवंबर से दिसंबर तक आयोजित किया जाता है.

विशेष सत्र


अब बात करते हैं विशेष सत्र की. भारतीय संविधान में इसका उल्लेख है. यहां बताया गया है कि जिन तीन सामान्य सत्रों की हमने चर्चा की है, उनके अलावा जरूरत पड़ने पर संसद का विशेष सत्र भी बुलाया जा सकता है।

इसका मतलब क्या है?

अगर किसी खास मुद्दे पर चर्चा हो या कोई कानून बनाना हो जैसे अभी भी कहा जा रहा है कि संसद का विशेष सत्र बुलाया जा रहा है

इसके पीछे वजह ये है कि सरकार उस बिल को पास कराने के लिए कई कानूनों वाला बिल ला सकती है. महिला आरक्षण भी एक बड़ा मुद्दा है.

संसद का विशेष सत्र बुलाने का अधिकार किसे है?


अगर वह सत्र को बुला रहे हैं तो वह राष्ट्रपति हैं. भारत के संविधान का अनुच्छेद 85 (1) राष्ट्रपति को सभा के प्रत्येक सदस्य का विशेष सत्र बुलाने का अधिकार है.

आपको यह समझना होगा कि राष्ट्रपति मंजूरी देते है और सरकार निर्णय लेती है. सरकार के पास एक समिति होती है जिसे हम कैबिनेट कमेटी कहते हैं जो यह तय करती है कि किस वर्ष कौन सा सत्र बुलाया जाएगा और कब सत्र बुलाया जाएगा.

भारतीय इतिहास में कब-कब बुलाया गया संसद का विशेष सत्र?


अब सवाल यह है कि क्या सरकार ने भारत में पहले भी इस तरह सत्र बुलाया है?

जून 2017: पिछली बार इस तरह का सत्र 2017 में जीएसटी के लिए बुलाया गया था ताकि जीएसटी कानून को वास्तविक रूप दिया जा सके।

जुलाई 2008: विश्वास मत हासिल करने के लिए 2008 में विशेष सत्र लोकसभा बुलाई गई

अगस्त 1997: आजादी के 50 वर्ष के अवसर पर संसद का छह दिनों का विशेष सत्र

अगस्त 1992: भारत छोड़ो आंदोलन के 50 वर्ष पूरे होने पर मध्य रात्रि का सत्र

जून 1991: हरियाणा में राष्ट्रपति शासन की मंजूरी के लिए (उच्च सदन की बैठक तब हुई, जब लोकसभा भंग थी)

फरवरी 1977: तमिलनाडु और नागालैंड में राष्ट्रपति शासन के विस्तार के लिए राज्यसभा का एक विशेष सत्र बुलाया गया

अगस्त 1972: आजादी की रजत जयंती पर विशेष सत्र बुलाया गया.

रजत जयंती का क्या मतलब है?

यह भारत की आजादी के 25 साल पूरे होने का जश्न मनाने के लिए एक विशेष सत्र था।

अब बात करते हैं भारत की आजादी से पहले की. भारत की आजादी से ठीक पहले 14 और 15 अगस्त को आधी रात होने के कारण विशेष सत्र बुलाया गया था. भारत के प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरू ने एक भाषण दिया, ट्रिस्ट विद डेस्टिनी।

Post a Comment

أحدث أقدم