Gandhi Jayanti Speech in Hindi: गांधी जयंती पर दें ये आसान भाषण

Gandhi Jayanti Speech: हैलो दोस्तों 2 अक्टूबर 2023 को गांधी जी के 154वीं गांधी जयंती के अवसर पर, गांधी जयंती पर हिंदी में दें ये आसान और दमदार भाषण, जो दिलाएगा आपको इनाम।


Gandhi Jayanti Speech in Hindi

माननीय अध्यक्ष महोदय, गुरुजनों और मेरे प्रिय सहपाठियों! मेरे लिए आज अति प्रसन्‍नता और गर्व का अवसर है कि मुझे आपके सामने गांधी जयंती जैसे महत्वपूर्ण समारोह पर अपने विचार प्रकट करने का अवसर मिल रहा है। आशा है कि आप मेरे विचारों को ध्यानपूर्वक सुनोगे।

साथियों!

आज, हम यहां एक उल्लेखनीय व्यक्ति का जश्न मनाने के लिए एकत्र हुए हैं, एक ऐसा व्यक्ति जिसके जीवन और सिद्धांतों ने हमारे देश और दुनिया के इतिहास पर एक अमिट छाप छोड़ी है। गांधी जयंती के इस विशेष दिन पर हम मोहनदास करमचंद गांधी, जिन्हें प्यार से महात्मा गांधी के नाम से जाना जाता है, की जयंती मनाते हैं।

महात्मा गांधी सिर्फ एक व्यक्ति नहीं थे; वह एक विचार, एक दर्शन और जीवन जीने का एक तरीका थे। उनकी शिक्षाओं और कार्यों ने पीढ़ियों को प्रेरित किया है, और उनकी विरासत हमें एक बेहतर, अधिक न्यायपूर्ण दुनिया की ओर मार्गदर्शन करती रहती है।

गांधी जी का जन्म 2 अक्टूबर, 1869 को गुजरात के एक छोटे से तटीय शहर पोरबंदर में हुआ था। उनकी जीवन यात्रा सत्य, अहिंसा और सामाजिक न्याय के प्रति उनकी अटूट प्रतिबद्धता का प्रमाण थी। उन्होंने हमारे देश को अहिंसक तरीकों से आजादी दिलाई और साबित किया कि हिंसा का सहारा लिए बिना भी बदलाव लाया जा सकता है।

"सत्याग्रह" का उनका सिद्धांत, जिसका अर्थ है "सत्य बल" या "आत्मिक बल", ने हमें सिखाया कि सत्य और अहिंसा की शक्ति सबसे शक्तिशाली उत्पीड़कों पर विजय प्राप्त कर सकती है। उन्होंने नमक मार्च, भारत छोड़ो आंदोलन और दक्षिण अफ्रीका में नागरिक अधिकारों की लड़ाई जैसे आंदोलनों का नेतृत्व किया, ये सभी इस विश्वास पर आधारित थे कि प्यार और सच्चाई नफरत और अन्याय पर विजय पा सकती है।

लेकिन गांधी जी की विरासत राजनीतिक स्वतंत्रता की लड़ाई से भी आगे तक जाती है। वह जाति, पंथ या पृष्ठभूमि की परवाह किए बिना सभी लोगों के बीच सामाजिक समानता, न्याय और एकता के समर्थक थे।

अस्पृश्यता उन्मूलन और खादी और स्वदेशी जैसे कार्यक्रमों के माध्यम से ग्रामीण विकास को बढ़ावा देने के प्रति उनका समर्पण क्रांतिकारी विचार थे जिनका उद्देश्य सबसे गरीब लोगों का उत्थान करना था।

हमारे लिए, आज के युवाओं के लिए, गांधी जयंती सिर्फ स्कूल से एक दिन की छुट्टी नहीं है। यह इस महान आत्मा की शिक्षाओं पर विचार करने और यह देखने का अवसर है कि हम उन्हें अपने जीवन में कैसे लागू कर सकते हैं। अक्सर हिंसा, असहिष्णुता और विभाजन से चिह्नित दुनिया में, गांधी का अहिंसा, सहिष्णुता और एकता का संदेश पहले से कहीं अधिक प्रासंगिक है।

आइए याद रखें कि बदलाव हमसे ही शुरू होता है। गांधी जी का मानना ​​था कि जो परिवर्तन हम दुनिया में देखना चाहते हैं, वह परिवर्तन हमें स्वयं करना होगा। इसलिए, आज जब हम उन्हें श्रद्धांजलि दे रहे हैं, तो आइए हम अपने दैनिक जीवन में ईमानदारी, दयालुता और अहिंसा का अभ्यास करने का संकल्प लें। आइए हम एक अधिक न्यायपूर्ण, समावेशी और शांतिपूर्ण विश्व के निर्माण के लिए मिलकर काम करें, जैसा कि महात्मा गांधी ने किया था।

अंत में, आइए हम महात्मा गांधी की शिक्षाओं और सिद्धांतों को अपनाकर उनकी विरासत को आगे बढ़ाएं। आइए हम सत्य, अहिंसा और सामाजिक न्याय के पथप्रदर्शक बनें। सभी को गांधी जयंती की शुभकामनाएं, और हम अपने राष्ट्रपिता के जीवन और संदेश से प्रेरित होते रहें।

धन्यवाद।

गांधी जयंती पर भाषण (Gandhi Jayanti Speech 2023)


भाषण 2

देवियो और सज्जनो, शिक्षकगण, और मेरे प्रिय साथी छात्र,

आज, हम मानव इतिहास की सबसे प्रतिष्ठित शख्सियतों में से एक, महात्मा गांधी की जयंती मनाने के लिए यहां एकत्र हुए हैं। गांधी जयंती सिर्फ स्मरण का दिन नहीं है; यह उस व्यक्ति की स्थायी विरासत को प्रतिबिंबित करने का दिन है जिसके सिद्धांत और कार्य हम सभी को प्रेरित करते रहते हैं।

2 अक्टूबर, 1869 को पोरबंदर, भारत में पैदा हुए महात्मा गांधी एक दूरदर्शी नेता थे, जो सत्य, अहिंसा और न्याय के लिए खड़े थे। उनका जीवन सामाजिक और राजनीतिक परिवर्तन लाने में इन आदर्शों की शक्ति का एक प्रमाण था।

गांधी के अहिंसा के दर्शन, जिसे 'अहिंसा' के नाम से जाना जाता है, ने ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन से स्वतंत्रता के लिए भारत के संघर्ष के दौरान एक मार्गदर्शक प्रकाश के रूप में कार्य किया।

महात्मा बनने की दिशा में गांधी की यात्रा न्याय के प्रति उनकी अटूट प्रतिबद्धता और मानवता की अंतर्निहित अच्छाई में उनके विश्वास से चिह्नित थी। उन्होंने शांतिपूर्ण प्रतिरोध के प्रतीक प्रसिद्ध नमक मार्च का नेतृत्व किया और अन्याय के विरोध में भूख हड़ताल की। उनके कार्यों ने न केवल लाखों लोगों को संगठित किया बल्कि यह भी प्रदर्शित किया कि परिवर्तन अहिंसक तरीकों से भी हासिल किया जा सकता है।

गांधीजी का प्रभाव भारत की सीमाओं से कहीं आगे तक फैला हुआ था। उनके दर्शन ने दुनिया भर में नागरिक अधिकार आंदोलनों को प्रभावित किया, जिनमें मार्टिन लूथर किंग जूनियर और नेल्सन मंडेला जैसे नेता भी शामिल थे। अहिंसा, सविनय अवज्ञा और समानता के सिद्धांत विश्व स्तर पर न्याय और मानवाधिकारों के लिए आंदोलनों को आकार देते रहते हैं।

जैसा कि हम गांधी जयंती मनाते हैं, यह विचार करना आवश्यक है कि हम उनकी शिक्षाओं को अपने जीवन में कैसे शामिल कर सकते हैं। अक्सर संघर्ष और विभाजन से चिह्नित दुनिया में, गांधी का सहिष्णुता, सद्भाव और एकता का संदेश पहले से कहीं अधिक प्रासंगिक है। हमें हिंसा का सहारा लेने के बजाय बातचीत और समझ के माध्यम से संघर्षों को हल करने का प्रयास करना चाहिए।

गांधीजी 'सर्वोदय' यानी सभी के कल्याण के विचार में विश्वास करते थे। आइए हम हाशिए पर मौजूद और उत्पीड़ितों के उत्थान के लिए उनके अथक प्रयासों को याद करें। अपने समुदायों में, हम एक अधिक न्यायपूर्ण और न्यायसंगत समाज बनाने की दिशा में काम कर सकते हैं, यह सुनिश्चित करते हुए कि कोई भी पीछे न छूटे।

अंत में, गांधी जयंती सिर्फ एक ऐतिहासिक शख्सियत को याद करने का दिन नहीं है; यह कार्रवाई का आह्वान है। यह हममें से प्रत्येक के लिए सत्य, अहिंसा और न्याय के सिद्धांतों को अपने दैनिक जीवन में अपनाने का निमंत्रण है।

आइए हम एक ऐसी दुनिया के लिए काम करके महात्मा का सम्मान करें जहां शांति और समानता कायम हो, जहां प्रेम और करुणा की ताकत नफरत और विभाजन पर विजय प्राप्त करे।

धन्यवाद, और गांधी जयंती की शुभकामनाएँ!

Post a Comment

أحدث أقدم